इस्ताम्बुल – ऐश्वर्या राय और बीवी

बात २०१० की है जब मुझे ऑफिस के काम से यूक्रेन जाना था | मेरी फ्लाइट तुर्की में दो-तीन घंटे रुकने वाली थी तो हमने प्लान बनाया कि क्यों न हम अपनी journey ब्रेक करें और ३-४ दिन इस्ताम्बुल घूमते हुए जाएं| मैंने ३-४ दिन की छुट्टी ली और हमने वैसे ही अपनी फ्लाइट बुक करवा दी | Punam Punam ने अखबार में कहीं पढ़ लिया था कि game फिल्म की इस्ताम्बुल में शूटिंग चल रही है | बस फिर क्या था – उसे लगने लगा कि अभिषेक बच्चन से उसकी भेंट हो जाएगी ! खैर बात आई गयी हो गई! दिल्ली से हमारी फ्लाइट सुबह के साढ़े छह बजे थी और हम साढ़े दस बजे (वहां का टाईम) इस्ताम्बुल पहुँच गये |
जानकारी के लिए बता दूँ कि साधारणतया टर्किश एयरवेज तुलनात्मक रूप से सस्ती होती है, इसलिए ज्यादातर लोग यूरोप या यूएस जाने के लिए टर्किश एयरवेज लेते हैं और ये लोग फिर एयरपोर्ट से बाहर नहीं निकलते इसलिए इनको एमिग्रेशन के लाइन में नहीं खड़ा होना पड़ता, ये लोग सीधे अपनी दूसरी कनेक्टिंग फ्लाइट की ओर चल देते हैं | जो लोग तुर्की घूमने जाते हैं उन्हें अलग पंक्ति में एमिग्रेशन की ओर जाना पड़ता है|
चूँकि हम भी तुर्की ही घूमने गये थे, तो हम एमिग्रेशन की ओर चल दिए | इसी बीच पूनम ने कहा कि मै थोड़ी देर प्रतीक्षा करूँ तब तक वो वाशरूम से आ रही है | मै बाहर ही प्रतीक्षा करने लगा | मै बस यूँ ही पास लगे स्क्रीन पर फ्लाइट्स के स्टेटस देख रहा था कि मेरी आंखे बॉम्बे से आने वाली फ्लाइट पर गयी| हमारी दिल्ली वाली फ्लाइट से ठीक पांच मिनट बाद बॉम्बे से फ्लाइट आई थी | अभी कुछ ही देर हुए होंगे कि मैंने देखा कि कुछ लोग (शायद बॉम्बे वाले)आ रहे थे, और मैंने देखा कि सबसे आगे जो महिला चल रही थी वो बिलकुल किसी मॉडल जैसी लग रही थी – काले चश्मे में थोड़ी लम्बी सी | सबसे आगे वही थी किसी एक और थोड़ी नाटी सी महिला के साथ, बाकि लोग उसके थोड़ा पीछे थे | मै भी तो खाली ही था, टाईम पास कर रहा था – सो उसी ओर देखने लग गया | जैसे ही वो लोग मेरे निकट पहुंचे …अरे ये तो ऐश्वर्या राय है !! अब मेरे पास सारा सामान था और मै आगे जा भी नहीं सकता था क्योंकि पूनम वाशरूम में थी ! क्या करूँ, बड़ी दुविधा थी, ऐश्वर्या के साथ एक फोटो तो बनता था, पर बीवी बाथरूम में – मेरे मस्तिष्क में ऐश्वर्या या बीवी को लेकर द्वन्द चल रहा था – फिर सोंचा कि बीवी के साथ ही जीवन गुजारना है, तो ऐश्वर्या को कभी बाद में देख लेंगे | ऐश्वर्या को सामने से गये हुए मुश्किल से २ मिनट हुए होंगे कि बीवी बाहर आ गयी| मैंने आनन् फानन में उसे सारी बातें बतायीं,और हम दोनों चल पड़े उसी दिशा में जिधर विश्व सुंदरी गयी थी | जैसे ही हम एमिग्रेशन की लाइन के पास पहुंचे कि देखा कि उसी लाइन में ऐश्वर्या भी खड़ी थी| चूँकि बाहर निकलने वाले लोगों में कोई भारतीय नहीं था (सारे विदेशी ही थे हमे छोड़ कर) तो हमे अच्छा मौका मिल गया ! बस फिर क्या था, मैंने पूछ डाला, “आप कहाँ से आ रही हैं?” हमे आश्चर्य हुआ जब उसने बड़े ही सहज भाव से हमसे बात करना शुरू किया! वो cannes फिल्म फेस्टिवल से आ रही थी, और अभिषेक से मिलने के लिए इस्तांबुल आई थी| मैंने एक फोटो के लिए आग्रह कर दिया और वो बड़े ही सहज ढंग से तैयार हो गयी |

फिर हमने कुछ इस्तांबुल की बातें की और एक ऑटोग्राफ के लिए मैंने पूछ लिया, इस बार ऐश्वर्या ने हमारे नाम पूछे और हमारे नाम के साथ एक पेपर पर अपना साइन कर दिया। इसी बीच हमारा नंबर आ गया और हम लोग एक मुस्कराहट के साथ अपने अपने रास्ते चल दिए| हम अपना सामान लेने लगेज बेल्ट पर गये और वहां​ फिर से मुलाकात हो गयी, इस बार थोड़ी और देर के लिए | हमने पूछा कि शूटिंग कहाँ चल रही है, पर बड़ी सफाई से वो इस बात को मुस्कुराते हुए टाल गई और फिर से इस्तांबुल की बातें करने लगी 🙂 | हमारा सामान आ चुका था पर उसका अभी नहीं आया था, उसके साथ एक महिला और थी शायद उसकी सेक्रेटरी होगी, पर न तो उसने कुछ रोक टोक किया और न ही हमने कुछ पूछा उसके बारे में !
तभी मेरे दिमाग में एक बात कौंधी, मैंने पूनम से कहा कि जब अभिषेक इसी शहर में है तो जरूर वो रिसीव करने आया होगा बाहर, अभिषेक होगा अपने घर का, ऐश्वर्या का तो पति ही है, और एक सीधे साधे पति की तरह चुप चाप उसे रिसीव करने आया ही होगा| हम बाहर की ओर चले, और जैसे ही बाहर निकले देखा कि अभिषेक सामने खड़ा था | हमने मिलने की कोशिश की पर उसका एक बॉडीगार्ड हमारे सामने आ गया और हमे रोक दिया| हमने फिर थोड़ी दूरी से ही अभिषेक को ऐश्वर्या वाला ऑटोग्राफ दिखाया, फिर पता नहीं क्या सूझा कि उसने हमे पास बुला लिया| हमने उसी पेपर पर उसका भी ऑटोग्राफ लिया और उसके साथ भी एक फोटो खिंचवाया और उसे बता दिया कि उसकी बीवी अपने सामान की प्रतीक्षा कर रही है, फिर हम लोगो ने हँस कर एक दूसरे को टाटा किया और चल दिए इस्ताम्बुल घूमने जहां प्रसिद्ध बौसफोरस ब्रिज के निकट रात को मछलियां पकड़ कर रोस्ट करके खिलाने वाले हमें सबसे ज्यादा पसंद आए, पर ये बातें किसी और दिन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *